Investment Kaise Kare - Investment Karne Ke Tarike

Investment kya Hai – Invest Kaise Kare

हेल्लो नमस्ते आज हम इस पोस्ट में ये जानने वाले है की हम लोग पैसे को कैसे सही जगह इन्वेस्ट कर सकते है और जिससे आपको अच्छा रिटर्न मिले तो आज की ये पोस्ट आपके लिए बहुत हेल्पफुल होने वाला है अगर आप इन्वेस्टमेंट की इच्छा रखते हैं तो इस पोस्ट को पूरा जरूर पड़ेगा हमने इस पोस्ट में इन्वेस्टमेंट के बारे में पूरी जानकारी दी है कि कैसे पैसे को सही जगह इन्वेस्ट कर सकते हैं जिससे आपका पैसा सुरक्षित रहे और आपको अच्छा लाभ मिले !

Investment Kya Hai – इन्वेस्टमेंट क्या है

Investment Kaise Kare - Investment Karne Ke Tarike
Investment Kaise Kare – Investment Karne Ke Tarike

आपकी कमाई में से बचत कुछ पैसे को भविष्य में लाभ प्राप्ति के लिए किसी चीज में लगाना जैसे कि फिक्स डिपाजिट/FD , गोल्ड , प्लाट इत्यादि में पैसे को खर्च करना यह इच्छा रखते हुए कि भविष्य में आपको उससे लाभ होगा तो इसी खर्च को  निवेश यानी कि इन्वेस्टमेंट कहते है

Investment Kaise Kare – इन्वेस्टमेंट कैसे करें

Investment आप बहुत तरीके से कर सकते हैं इन्वेस्टमेंट करने के बहुत सारे तरीके हैं जिसमें से हमने कुछ बेहतरीन और लाभदायक तरीकों के बारे में नीचे बताया है जिसमें आपको पैसे की सुरक्षा के साथ अच्छा रिटर्न मिल सकता है

Types Of Investment –  निवेश के प्रकार

देखिए इन्वेस्टमेंट करने से हम इन्वेस्टमेंट के विकल्प के बारे में जान लेते हैं कि कौन-कौन से ऐसे विकल्प हैं जिनमें आप निवेश कर सकते हैं तो भारत में देखा जाए तो यह चार प्रकार के इन्वेस्टमेंट तरीके बहुत ज्यादा लोकप्रिय हैं

  1. गोल्ड/GOLD
  2. रियल एस्टेट/FLATS
  3. फाइसेड इनकम इंस्ट्रूमेंट/FII
  4. इक्विटी ( STOCK MARKET )

1)GOLD/गोल्ड :- सोने में निवेश करते समय भी आपको अपने अन्य इन्वेस्टमेंट्स की तरह सेफ्टी, लिक्विडिटी और रिटर्न को ध्यान में रखना चाहिए। सोना लंबे समय में आपको मध्यम रिटर्न दे सकता है, लेकिन आर्थिक अनिश्चितता के दौर में यह सबसे अच्छा रिटर्न देता है।

गोल्ड में निवेश करने के चार मुख्य तरीके हैं: फिजिकल गोल्ड यानी सोने का सामान, गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF), सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स, और डिजिटल गोल्ड। सोने का सामान खरीदना आसान है, लेकिन उसकी शुद्धता को सुनिश्चित करना और सुरक्षित भंडारण की व्यवस्था करना किसी चुनौती से कम नहीं है जिसके पीछे आपको थोड़े पैसे खर्च करने पड़ेंगे। इसे गहने, सिक्के या बिस्कुट के रूप में ख़रीदा जा सकता है। सोने का सामान खरीदने के मामले में कोई सीमा नहीं है। लेकिन, टैक्स के उद्देश्य से इसकी रसीद और टैक्स इनवॉइस को सुरक्षित रखें।

गोल्ड इन्वेस्टमेंट के दो अन्य रूप भी हैं जिन्हें खरीदकर रखना सुरक्षित और आसान है। आप कम से कम 1 ग्राम की रकम के बराबर गोल्ड ETF में इन्वेस्ट कर सकते हैं और इसमें इन्वेस्ट करने के लिए आप एक लम्प सम या एक सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) का सहारा भी ले सकते हैं। सोने के सामान के विपरीत, गोल्ड ETF में सोने की शुद्धता की चिंता नहीं रहती है क्योंकि इन्हें डीमैट रूप में खरीदा जाता है।

दूसरी तरफ सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स (SGB) ऐसे गवर्नमेंट सिक्यॉरिटीज हैं जिन्हें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) द्वारा जारी किया जाता है। एक SGB को एक ग्राम सोने के मल्टीपल में खरीदा जा सकता है। SGB के मामले में सोने की शुद्धता, सोने के सामान की तुलना में चिंता का कोई विषय नहीं है क्योंकि बॉन्ड की कीमत, इंडियन बुलियन ऐंड जूलर्स असोसिएशन (IBJA) द्वारा प्रकाशित 999 शुद्धता वाले सोने की कीमत से जुड़ी होती है। SGB पर 2.5% प्रति वर्ष की दर से इंटरेस्ट मिलता है। इमरजेंसी में, SGB को जमानत के रूप में गिरवी रखकर लोन लिया जा सकता है।

आप बैंकों, फिनटेक, और MMTC के साथ मिलकर काम करने वाली कुछ ब्रोकरेज कंपनियों द्वारा प्रदान किए जाने वाले विभिन्न डिजिटल विंडो के माध्यम से भी आराम से गोल्ड खरीद सकते हैं। इसके अलावा, आप बहुत कम परिमाण में भी गोल्ड खरीद सकते हैं।

2)रियल एस्टेट :- भारत में सबसे तेजी से बढ़ते वाले निवेश के क्षेत्रों में रियल एस्टेट एक है| कुछ साल पहले, लोग अपने उपयोग के लिए घर, जमीन या Commercial जगह खरीदते थे, लेकिन इसमें निवेश और Returns की प्रवृत्ति में बदलाव के कारण, वे इन्हें बेचकर भविष्य में हाई प्रॉफिट कमाने के लिए अचल संपत्ति में निवेश करना शुरू कर रहे हैं।

  • जैसा कि आप जानते हैं, की अचल संपत्ति में Minimum या Maximum निवेश सीमा नहीं है। अगर आपके पास ज्यादा पैसा नहीं है, तो आप Real Estate कम्पनियों के Shares में भी निवेश कर सकते हैं|
  • कभी-कभी मार्केट में शेयर्स की असल कीमत से ज्यादा उनकी वैल्यू बढ़ जाती है, जो अपने आप चलती रहती है| ऐसी स्थिति में निवेश करते समय इस पर ध्यान रखना चाहिए।
  • Real Estate की बिक्री पर लाभ पूरी तरह से कर योग्य हैI हालाँकि आप Sale Money को Re-Invest करके टैक्स बचा सकते हैं|

अचल संपत्ति में Investment केवल इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितनी समझदारी के साथ निवेश करते हैं। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आप कुछ शहर से बाहर कही दूरदराज पर कोई जमीन खरीद रहे हैं तो अगर भविष्य में वहां विकास की संभावना है तो आपको एक बड़ा लाभ मिल सकता है।

3)FII/एफआईआई :- FII का पूरा नाम Fixed Income Instrument है और Fixed Income से मतलब यह है कि इस तरह के  इन्वेस्टमेंट से मिलने वाला लाभ बिल्कुल पहले से ही निश्चित यानी Fixed होता है, जिसमें आपको जितने समय के लिए आपने रुपए को फिक्स किया है उसके अनुसार आपको रिटर्न दिया जाता है Fixed Income के अंदर आने वाले कुछ पॉपुलर तरीके हमने नीचे बताया है

( FII इन्वेस्टमेंट प्रकार है )

  1. बैंक द्वारा दिया जाने वाला फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम
  2.  बैंक द्वारा आवर्ती जमा (RECURRING DEPOSIT -RD) स्कीम
  3. भारत सरकार द्वारा बांड्स में निवेश का स्कीम
  4. बड़ी बड़ी कॉरपोरेट कंपनी द्वारा दिया जाने वाला बॉन्ड स्कीम में निवेश

अगर बात की जाए FIXED INCOME INSTRUMENT से मिलने वाले लाभ और RISK की तो इस तरह के निवेश पे सबसे कम जोख़िम होता है, और RISK काम होने के कारण इस तरह के निवेश पर लाभ भी कम मिलता है,अगर 2017 की बात की जाए तो इस तरह के निवेश पर मिलने वाला वार्षिक लाभ 7% से 11% तक होता है,

4) EQUITY/इक्विटी :- Equity Shares में निवेश करना सबसे अच्छा विकल्प होता है| विश्लेषण के अनुसार, अन्य निवेश योजनाओं की तुलना में इक्विटी पर सबसे ज्यादा Return प्राप्त होता है, इक्विटी पर मिलने वाले Returns की कोई upper limit नहीं है| कई ऐसे Investors है जिन्हें इक्विटी शेयर्स पर अपने निवेश से कई गुना ज्यादा रिटर्न मिलता है लेकिन High Return के साथ High Risk भी होता है और Equity पर भी यही लागू होता है। Share Market में इसके बढ़ने की संभावना हमेशा इसके गिरने की संभावना के बराबर होती है और अगर आप समझदारी के साथ इक्विटी में निवेश का निर्णय लेने है तो वह काफी हद तक जोखिम को कम कर सकते है|

Equity में निवेश करते समय ध्यान देने वाली बातें

यदि आप शुरुआती दौर में है तो यह सबसे पहले इसकी Research करे की यह काम कैसे करता है और इसके मुख्य Points क्या है| जो आपको आगे के फैसलों में मदद करेगा और जोखिम से बचेगा|

अगर आप Equity में निवेश करना चाहते है तो हमेशा long term का सोचते हुए Investment करना चाहिए| यदि आप 10-15 साल की अवधि के लिए निवेश करते हैं तो यह आपके निवेश पर सबसे ज्यादा रिटर्न देगा|

आप अपनी पूरी बचत शेयर बाजार में ना लगाए| बल्कि Total Saving का 50% -70% शेयर बाजार में निवेश करने के लिए एक अच्छा option माना जाता है इससे आपके पोर्टफोलियो को मदद मिलेगी|

अपने पसंदीदा स्टॉक की एक सूची बनाएं, इन शेयर्स के पिछले सालो के परफॉरमेंस और कंपनी के भविष्य की योजनाओं पर गहरी रिसर्च और जानकारी प्राप्त करें| उन रैंडम शेयर्स में कभी भी Investment ना करे जिस पर आपने कभी भी रिसर्च न की हो|

इन सभी बातो को ध्यान में रखते हुए अपना निवेश करें|

Invest Karne Ke Fayde – इन्वेस्ट करने के फायदे

अगर आपने अपने पैसे को सही जगह इन्वेस्ट किया है तो वह पैसा आपके भविष्य के लिए बहुत ही लाभदायक होगा इन्वेस्टमेंट करने के बहुत सारे फायदे हैं अगर आप अपनी कमाई का कुछ हिस्सा सही जगह निवेश करते हैं तो फ्यूचर में आपको उसका अच्छा रिटर्न मिल सकता है  इन्वेस्ट करने से आपके पैसे की बढ़ोतरी अच्छी तेज़ी से होती है पर कुछ निवेश ऐसे है जिसमें आपको बहुत ज्यादा लाभ तो होता है पर उसमें खतरा भी बहुत है इसलिए आप आपने पैसे को सुरक्षित चीज जैसे की गोल्ड , जमीन , और एफडी यानी की फिक्स डिपॉज़िट की और ज्यादा ध्यान दे

निष्कर्ष

हमने इस पोस्ट में इन्वेस्टमेंट के बारे में बात की है कि कैसे आप निवेश कर सकते हैं या निवेश के कितने प्रकार होते हैं

Leave a Comment